Saturday, February 5, 2011

निशान - ए- जिन्दगी ..........बेईमान

आज में हिंदी ब्लॉग जगत में एक कविता के साथ पदार्पण कर रहा हूँ ...आप सभी को हिंदी की सेवा में संलगन देखते हुए मुझे भी आप सबसे प्रेरणा मिली ..आशा है आपका सहयोग और मार्गदर्शन भी मुझे मिलता रहेगा ...इसी आशा के साथ ....

 ftanxh dk dkjoka
xqtj tkrk gS
bd
ckyw ds Vhys dh rjg
jg tkrs gSa
flQZ
dqN L;kg fu’kku
crkrs gSa tks
xqtjs gq,
dkjosa dkAA

3 comments:

: केवल राम : said...

यह जिन्दगी की सच्चाई है ..परन्तु कुछ स्याह निशान ...आपका कहना बिलकुल बाजिव है ....शुभकामनायें

: केवल राम : said...

बहुत बढ़िया कविता ...आपका आभार

Baimann said...

शुक्रिया
आपके विचारों से प्रेरणा मिलती है. दोस्ती कबूल कीजिये
आपका बेईमान